गुरू को मिला बड़ा झटका, पार्टी ने कहा....

फायर ब्रांड नेता और अपनी खास भाषण कला के लिए मशहूर नवजोत सिंह सिद्धू जो कभी देशभर में चुनाव प्रचार के लिए सबसे अधिक मांग में रहने थे, और अब वो  कांग्रेस के लिए उपयोगी नहीं रह गए हैं।

गुरू को मिला बड़ा झटका, पार्टी ने कहा....
नवजोत सिंह सिद्धू

फायर ब्रांड नेता और अपनी खास भाषण कला के लिए मशहूर नवजोत सिंह सिद्धू जो कभी देशभर में चुनाव प्रचार के लिए सबसे अधिक मांग में रहने थे, और अब वो  कांग्रेस के लिए उपयोगी नहीं रह गए हैं। जी हां पार्टी ने उनको बड़ा झटका देते हुए हरियाणा सहित दो राज्‍यों के चुनाव प्रयचार से दूर रखा है। आपको बता दे कि पंजाब की राजनीति से गायब हुए पूर्व कैबिनेट मंत्री सिद्धू को अब ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी ने स्टार प्रचारकों की सूची से हटा दिया है।

इसी के साथ बता दे कि लोकसभा चुनाव और मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ व राजस्थान जैसे राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने एक साल पहले सिद्धू को स्टार प्रचारक बनाया था। लोकसभा चुनाव 2019 में भी वह पूरे देशभर में कांग्रेस का प्रचार करते रहे थे और हरियाणा में भी काफी संख्‍या में जनसभाएं की थीं व रोड शो किया था। लेकिन, अब वह कांग्रेस महाराष्ट्र व हरियाणा के स्टार प्रचारकों की सूची से गायब हो गए है

बताया जाता है कि हरियाणा कांग्रेस ने पहले सिद्धू को स्टार प्रचारक के रूप में शामिल करने के लिए पार्टी हाईकमान को कहा था, लेकिन बाद में कई नेता इसके विरोध में आ गए थे। इसके बाद पार्टी ने सिद्धू को दोनों ही राज्यों की स्टार प्रचारकों की सूची में स्थान नहीं दिया है। हरियाणा के स्टार प्रचारकों की सूची में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, प्रदेश कांग्रेस प्रधान सुनील जाखड़ और शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला शामिल हैं।

लोकसभा चुनाव के साथ ही नवजोत सिद्धू का राजनीतिक ग्राफ पंजाब में गिरने लगा था। लोकसभा चुनाव में सिद्धू और सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच वाकयुद्ध शुरू हो गया था। जिसके बाद कांग्रेस ने बठिंडा सीट पर मिली हार के लिए सिद्धू को दोषी ठहराया था। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू से स्थानीय निकाय विभाग वापस लेकर उन्हें ऊर्जा विभाग दे दिया था, लेकिन सिद्धू ने नया विभाग लेने से मना कर दिया।

राहुल और प्रियंका गांधी वाड्रा के हस्तक्षेप के बावजूद मामले का हल नहीं निकला जिसके चलते सिद्धू ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद से वह लगातार पार्टी, मीडिया व सरकार से दूरी बनाए हुए हैैं। लगता है अब कांग्रेस ने भी उनसे दूरी बनानी ली है। ऐसे में गुरु सिद्धू के राजनीतिक भविष्‍य को लेकर चर्चा शुरू हो गई हैं।

दूसरी ओर, यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि पाकिस्‍तान को लेकर पिछले दिनों सिद्धू की बयानबाजी के कारण भी कांग्रेस ने उनको चुनाव प्रचार से दूर रखने का फैसला किया जाता है। समझा जाता है कि कांग्रेस को लगा कि सिद्धू के चुनाव प्रचार करने से वह राष्‍ट्रवाद के मुद्दे पर घिर सकती है।
 


Follow @India71