एम. के. स्टालिन हिंदू विरोधी नहीं : द्रविड़ मुनेत्र कड़गम

द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) के अध्यक्ष एम. के. स्टालिन ने मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी हिंदू धर्म के खिलाफ नहीं है, जैसा कि भाजपा द्वारा झूठा प्रचार किया जा रहा है।

एम. के. स्टालिन हिंदू विरोधी नहीं : द्रविड़ मुनेत्र कड़गम
एम. के. स्टालिन

द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) के अध्यक्ष एम. के. स्टालिन ने मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी हिंदू धर्म के खिलाफ नहीं है, जैसा कि भाजपा द्वारा झूठा प्रचार किया जा रहा है।

यहां एक चुनावी रैली में स्टालिन ने कहा कि भाजपा सुनियोजित तरीके से झूठ फैला रही है कि द्रमुक हिंदू विरोधी है।

स्टालिन ने कहा, "अगर पार्टी हिंदू विरोधी है तो फिर द्रमुक में हैं कौन? क्या वे जवाब दे सकते हैं।"द्रमुक प्रमुख ने भाजपा पर हिंदू धर्म के एकमात्र संरक्षक जैसा व्यवहार करने का आरोप लगाया।

स्टालिन ने कहा कि द्रमुक किसी धर्म या जाति के खिलाफ नहीं है और इसकी मुख्य भूमिका सामाजिक सौहार्द की रक्षा करना है।

द्रविड़ सामाजिक आंदोलन डीके के नेता के.वीरामणि ने हाल में कहा था कि भगवान कृष्ण के काल में अगर मोबाइल फोन रहा होता तो वह पोलाची यौन शोषण मामले के कथित आरोपियों का वीडियो बना लेते। वीरामणि, द्रमुक की अगुवाई वाले गठबंधन का समर्थन कर रहे हैं।

भगवान कृष्ण का नाम पोलाची सेक्स स्कैंडल में लेने पर तमिलनाडु में कई लोगों में नाराजगी है। पुलिस ने वीरामणि के खिलाफ शिकायत दर्ज की है।

स्टालिन के मुस्लिम शादी में शामिल होने के दौरान हिंदू विवाह परंपरा को लेकर व्यंग्यपूर्ण संदेश सोशल मीडिया में वायरल हो रहे हैं।

तमिलनाडु विधानसभा में विपक्ष के नेता स्टालिन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य में अन्नाद्रमुक की सरकार को समर्थन दे रहे हैं।

स्टालिन के अनुसार, मोदी सरकार के लोकसभा चुनाव में हार के साथ अन्नाद्रमुक सरकार भी चली जाएगी।


Follow @_India71