महापर्व छठ का आज दूसरा दिन

सूर्य देव और छठ मैया की उपासना का महापर्व छठ पूजा गुरुवार को नहाय-खाय से प्रारंभ हो गया।

महापर्व छठ का आज दूसरा दिन
सूर्य देव और छठ मैया की उपासना का महापर्व छठ पूजा

सूर्य देव और छठ मैया की उपासना का महापर्व छठ पूजा गुरुवार को नहाय-खाय से प्रारंभ हो गया। आज छठ का दूसरा दिन है, और आज के दिन को खरना कहा जाता है। इससे पहले नहाय-खाय के दिन व्रत रखने वाले व्यक्ति स्नान के बाद व्रत का संकल्प लेते है। संकल्प में 36 घंटे निर्जला व्रत रखने और विधिपूर्वक व्रत पूर्ण करने का प्रण लिया जाता है। खरना के दिन शाम को व्रती महिलाएं गुड़ और चावल का खीर बनाती हैं और उसे खाकर ही 36 घंटे का निर्जला व्रत रखती हैं। खरना के शाम से लेकर उगते सूर्य को अर्घ्य देने तक बिना कुछ खाए-पीए व्रत रखना होता है। इस बार खरना और अर्घ्य के समय विशेष योग भी बना हुआ है।

खरना 01 नवंबर दिन शुक्रवार को है। ​यह कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को होता है। इस दिन सूर्योदय का समय सुबह 06:33 बजे और सूर्यास्त शाम 05:36 बजे होगा।

खरना के दिन शाम को महिलाएं मिट्टी के बनाए गए चूल्हे पर चावल का खीर बनाती हैं। इसमें चीनी की जगह गुड़ का प्रयोग होता है और शाम के समय खीर और रोटी खाकर के व्रती छठी मैया का निर्जला व्रत रखती हैं।


Follow @India71