मूसलाधार बारिश बनी,मौत की वजह

मध्य प्रदेश में लगातार मूसलाधार बारिश होने की वजह से वहां बाढ़  की स्थिती बन गई है। जिसका असर वहां के लोगो पर पड़ रही है,इस वजह से उनकी जींदगी अस्त-व्यस्त हो गई है।

मूसलाधार बारिश बनी,मौत की वजह
मूसलाधार बारिश होने की वजह से वहां बाढ़  की स्थिती

मध्य प्रदेश में लगातार मूसलाधार बारिश होने की वजह से वहां बाढ़  की स्थिती बन गई है। जिसका असर वहां के लोगो पर पड़ रही है,इस वजह से उनकी जींदगी अस्त-व्यस्त हो गई है। जोरदार बारिश ने 11 लोगों की जान ले ली है। प्रदेश की सभी प्रमुख नदियां उफान पर हैं। उधर, हरदा की जिला जेल में सुकनी नदी का पानी भर गया। ऐसे में चार महिलाओं सहित 229 कैदियों को जेल परिसर में ही सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया। मौसम विभाग ने प्रदेश के आठ जिलों में रेड, आठ जिलों में ऑरेंज और 17 जिलों में यलो अलर्ट जारी किया है।

राजधानी भोपाल में भारी बारिश लोगों के लिए मुसीबत बनकर आई है। शहर के कई निचले इलाके पानी में डूब गए हैं। वहीं, 2016 के बाद पहली बार कोलार डैम के गेट खोलने पड़े हैं। इस बीच मौसम विभाग की मानें तो अगले दो दिन सूबे के लोगों पर भारी पड़ सकते हैं।

सीहोर जिले में जताखेड़ा के पास पुलिया से टकराने के बाद एक कार उफनते नाले में गिर गई। हादसे में कार में सवार एक महिला सहित पांच लोग नाले में बह गए। खलघाट-धरमपुरी मार्ग पर पिपल्दागढ़ी गांव के पास बारिश के कारण पेड़ से बस टकरा गई। हादसे में पीछे बैठे तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। केंद्रीय जेल सागर में बारिश की फिसलन से गिरने के कारण आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी की मौत हो गई। सागर जिले के गढ़ाकोटा में 12 वर्षीय राहुल साइकिल सहित नाले में बह गया। सिवनी जिला मुख्यालय से करीब 15 किलोमीटर दूर पुसेरा मुंगवानी गांव के बीच वैनगंगा नदी के अथाह पानी में रविवार देर रात दो युवक कार समेत बह गए। दोनों के शव बरामद किए गए।
 


Follow @India71